संरक्षक समिति

कार्यकारिणी समिति

कार्यकारीणी सदस्य

श्री विनोद बिल्लोरे

9826517915

श्री सुरेश बरोले

9826045458

श्री सुरेन्द्र पाराशर

9406683287

श्री माधव शांडिल्य

9424017556

श्री जगदीश पगारे

9827270071

श्री सुनील डोंगरे

9827450497

श्री रघुनन्दन चन्द्रे

9977008101

श्री सुनील सकरगांये

9425085095

श्री सुभाष केषवरे

9424078474

श्री विनोद जोशी

9754881881

श्री संजय गुहा

9926414848

अध्यक्ष

श्री राजेन्द्र नारायण शर्मा
9827267639,8602211604

उपाध्यक्ष

(वरिष्ठ) श्री योगेश डोंगरे
9826042975
(कनिष्ठ) श्री सुरेन्द्र पहारे
9630218793

सचिव

श्री योगेन्द्र जोशी
9827502000,9407454870

कार्यालयीन सचिव

श्री योगेश कोटवाले
9425085102

सह सचिव

श्री अशोक डोंगरे
9977117562
श्री शरद चवरे
9424570911

कोषाध्यक्ष

श्री अशोक चवरे
9926051859

श्री डाॅं एम.आर.जोशी

0733 2222586

श्री नारायणराव मुजमेर

8989500028

श्री रमेश नेगी

8989454579

डाॅं पी.एस.भालके

9425087349

श्री मधुकर बिल्लोरे

07577-223276-9977698776

श्रीमती किरण अखिलेश गुहा

9926620845

श्री अखिल नार्मदीय छात्र सहायक संस्था खंडवा

कार्य पद्धति– नार्मदीय ब्राह्मण समाज में छात्र /छात्राओं को अध्ययन हेतु सहायता देने के उद्धेष्य से खंडवा में संस्था की स्थापना की गई, पूर्व में जबलपुर में भी इस उद्धेष्य के अन्तर्गत एक संस्था की स्थापना की गई थी प्रांरभ में प्रति सदस्य एक रूपया प्रतिमाह एवं संक्राति पर्व पर सम्पर्क कर राशि संकलित की जाती थी तथा प्राप्त आवेदन पत्रो में प्राप्त धन राशि समान रूप से वितरित कर दी जाती थी। परन्तु ष्यह संकलन की प्रकिया व्यवस्थित नही चल पा रही थी इससे राशि जो छात्रो को दी जा रही थी उसमें विभिन्नता आ जाती थी।

संस्था की बैठकों में समय समय पर विचार कर आजीवन सदस्यता जो कि अब 501 रूपये है। तथा विशेष 1,000 रूपये है। विशिष्ट राशि 1000 रूपये से अधिक एवं छात्रवृत्ति न्यूनतम 5000 रूपये या अधिक देय रखी गई है। इस तरह धीरे धीरे इस संस्था ने प्रगति करते हुए। समाज का विश्वास प्राप्त हुए लगभग 75 लाख रूपये की अपनी जमा पूंजी एकत्र की है।

उपरोक्त सभी प्रकार से प्राप्त राशि को बैक में एफडी रूप में सुरक्षित रखा जाता है। तथा इस जमा पूँजी पर प्राप्त ब्याज राशि से छात्र/छात्राओं को छात्रवृत्ति के रूप में आर्थिक सहायता की जाती रही है। वर्तमान वर्ष 17-18 हेतु संस्था का बजट रूपये 6.50 लाख का है। संस्था को जमा पूंजी पर प्राप्त ब्याज का 95 प्रतिषत हिस्सा छात्र/छात्राओं छात्रवृत्ति के रूप में देना अनिवार्य है। शेष 5 प्रतिषत राशि कार्यालय व्यय के रूप में व्यय किया जा सकता है।

संस्था की सम्पूर्ण पूँजी पर संस्था के संरक्षक सदस्यों का नियंत्रण रहता है। कार्यकारणी के पदाधिकारियों को प्राप्त ब्याज का मात्र 5 प्रतिशत कार्यालय व्यय हेतु लेने का अधिकार हैं। शेष 95 प्रतिशत चैक द्वारा/कोर बैकिंग द्वारा सीधे बैक अकाउंट में ट्रांसफर कर छात्र छात्राओं को छात्रवृत्ति सहायता राशि के रुप में देना आवश्यक है।

चयन– संस्था की वार्षिक सभा में प्रति 3 वर्ष के संरक्षकगण एवं पदाधिकारियों का चयन किया जाता है। एक सलाहकार समिति का प्रतिवर्ष वार्षिक सभा में चयन किया जाता है।

संरक्षक -संस्था के सदस्यों में से खंडवा के 3 एवं अन्य प्रांत से 2 सदस्यों का चयन किया जाता है। ये संरक्षक सदस्य संस्था की पूंजी पर पूर्ण नियंत्रण रखते है। तथा कार्यकारिणी के निष्क्रिय होने या प्रतिकूल होने पर कार्यकारिणी का भंग कर आम सभा बुलाकर पुनः नई कार्यकारिणी का गठन करवा सकते है।

कार्यकारिणी सभा – संस्था की कार्यकारिणी सभा का चयन प्रति 3 वर्ष में वार्षिक आम सभा में किया जाता है। कार्यकारिणी, प्रति द्वितीय शनिवार को सभा आमंत्रित करती है। तथा गत माह में संस्था की गतिविधियों की सम्पूर्ण जानकारी सभा में प्रस्तुत करती है। जिसमें संस्था द्वारा किये गये कार्यकलापों की जानकारी, संस्था को प्राप्त आय व्यय की जानकारी आदि का पूर्ण विवरण दिया जाता है।

आवेदन पत्रों को अलग-अलग संकाय में लिस्ट तैयार करना, जिसमें आवेदन पत्र में दी गई जानकारियों आवेदक, समाज के 2 बन्धुओं द्वारा छात्रवृत्ति देने हेतु अनुशंसा, अध्ययनरत् प्रमाण पत्र की जानकारी आदि का विस्तृत विवरण एक रजिस्टर में तैयार किया जाता है। तथा इस सम्पूर्ण विवरण को सलाहकार समिति के समक्ष प्रस्तुत किया जाता है। कार्यालय के प्राप्त पत्र व्यवहार को देखना, पंजीकृत संस्था होने से समय-समय पर शासकीय कार्यों को करना, आडिट करवाना, आय कर विवरणी भरना, वार्षिक सभा की सूचनाएं हर सदस्य को देना आदि कार्य करना।

सलाहकार समिति – सलाहकार समिति का प्रतिवर्ष वार्षिक सभा में चयन किया जाता है। सलाहकार समिति में खंडवा से 5 सदस्य ( इनमें से 1 सदस्य सलाहकार समिति का संयोजक होता है।) तथा इन्दौर, हरदा, धार खरगोन, प्रवासी प्रान्त इस तरह हर प्रान्त के एक- एक सदस्य कार्यकारिणि के सहयोग से प्राप्त आवेदन पत्रों का अध्ययन, मनन करते है। तथा बजट के आधार पर पात्र छात्राओं को छात्रवृत्ति देने के लिये चयनित कर कार्यवाही रजिस्टर में अनुशंसा करते है जिसकी मासिक सभा में स्वीकृति लेने के बाद छात्र- छात्राओं को छात्रवृत्ति सहायता राशि देने के लिए कार्यालय कार्यवाही करता है। सलाहकार समिति को यह निर्देश भी आम सभा द्वारा प्राप्त रहता है कि किसी संकाय की छात्रवृत्ति राशि शेष रहती है। तो उस शेष राशि को किसी अन्य संकाय के योग्य छात्र-छात्रा के लिए सहायता राशि के रुप में अनुशंसा कर सकती है। छात्रवृत्ति दाताओं द्वारा प्रदत्त राशि के ब्याज से छात्र-छात्राओं को छात्रवृत्ति एवं सहायता राशि दी जाती है। इस छात्रवृत्ति एवं सहायता राशि की छात्रछात्राओं को किस छात्रवृत्ति दाता के नाम की राशि दी जाती हैं। तथा छात्रवृत्ति राशिदाता को भी यह जानकारी प्रतिवर्ष निर्धारित प्रारूप में दी जाती है। कि इस वर्ष आपके द्वारा निर्देषित नाम से छात्रवृत्ति राशि किस छात्र छात्रा को किस कक्षा में किस शहर में प्रदाय की गई है।

छात्र छात्रओं से प्रतिवर्ष माह 1 जुलाई से 30 सितम्बर तक आवेदन पत्र मंगाये जाते है। यह आवेदन पत्र कार्यालय 20 ब्राह्मणपुरी,खंडवा पर सम्पर्क कर प्राप्त किये जा सकते है। आवेदको को चाहिये कि आवेदन करने हेतु नया संषोधित स्वीकृत आवेदन पत्र प्राप्त कर आवेदन करे पुराने आवदेन पत्र निरस्त कर दिये जा सकते है। आवेदन पत्र प्राप्ति हेतु 5 रूपये का डाक टिकट लगा कर स्वयं का पता लिखा लिफाफा भेज कर भी डाक द्वारा आवेदन प्राप्त किये जा सकते है।

छात्रवृत्ति राशि /सहायता राशि- प्रतिवर्ष स्वीकृत बजट के अनुसार छात्र/छात्राओं को छात्रवृत्ति राशि स्वीकृत की जाती है। यदि किसी संकाय के योग्य छात्र छात्राओं के न होने पर इस तरह बची राशि अन्य संकाय के छात्रछात्राओं को सहायता के रूप में स्वीकृत की जाती है। यह सहायता राशि देना संस्था में राशि की उपलब्धता पर निर्भर करता है।

श्री अखिल नार्मदीय छात्र सहायता संस्था,खंडवा द्वारा पिछले वर्षो में (आज तक ) लगभग 4500 छात्र छात्राओं को लगभग 55 लाख रूपये राशि छात्रवृत्ति/सहायता के रूप में प्रदान किये जा चुके है। परन्तु वर्तमान समय की बढती हुई महंगाई अध्ययन हेतु लगने वाली फीस, रहने की व्यवस्था व्यय आदि पर पालकों को अपने बच्चें को अध्ययन करवाना बहुत भारी पड़ रहा है।

अतः समाज के हर परिवार को अपनी ओर से एक छात्रवृत्ति कम से कम एवं व्यवसायरत व्यक्ति ने संस्था की विषेष सदस्यता ग्रहण करना चाहिए ताकि संस्था की प्रगति वर्तमान समय के अनुरूप गति ले सके।

साथ ही उन पूर्व छात्रछात्राओं से भी अपील करता हॅू जिन्होने अपने अध्ययनकाल में संस्था से सहायता ली है। वे आगे आकर संस्था की सदस्यता ग्रहण करें छात्रवृत्ति राशि देेवें ताकि भविष्य में और अधिक छात्रों को अधिक से अधिक राशि दे सके। समाज का विद्यार्थी अर्थाभाव के कारण इच्छा अनुसार उच्च शिक्षा से वंचित न रहें।

नर्मदे हरे
योगेन्द्र जोशी
संस्था सचिव

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *